HomeRojgar Samachar

SSC CGL की अचूक रणनीति

Like Tweet Pin it Share Share Email

SSC CGL क्या है?

ssc cgl success tips
ssc cgl success tips

SSC CHSL की तरह SSC CGL परीक्षा सामान्यता त्रिस्तरीय ही होती है । हालांकि कुछ पदों के लिए चौथे स्तर पर (dest) डाटा एंट्री स्पीड टेस्ट तथा सीपीटी कंप्यूटर प्रोफिशिएंसी टेस्ट का भी आयोजन साल में दो बार किया जाता है सीएचएसएल की भांति CGL की आवेदन प्रक्रिया भील नवंबर माह में ही शुरू हो जाती है। जबकि अगले साल मार्च माह में टियर 1 तथा जून-जुलाई में टियर 2 और टियर 3 परीक्षा का आयोजन किया जाता है ।टीयर 1 में सफल उम्मीदवारों को ही टियर-2 परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद ही अभ्यार्थियों को टियर 3 की परीक्षा में शामिल किया जाता है ।SSC CGL की साल में दूसरी बार आवेदन प्रक्रिया मई-जून में शुरू होती है ऑनलाइन आवेदन के बाद प्रथम चरण यानी टीयर 1 में परीक्षा का आयोजन समानता 1 से 20 अगस्त के बीच किया जाता है जबकि द्वितीय चरण की टियर 2 परीक्षा का आयोजन नवंबर माह में तथा तीसरे चरण की टियर 3 परीक्षा का आयोजन अगले साल जनवरी माह में किया जाता है ।कुछ खास पदों के लिए चौथे चरण की भी परीक्षा का आयोजन फरवरी माह में किया जाता है 

SSC CGL आवेदन प्रक्रिया

आवेदन प्रक्रिया दो चरणों में पूरी होती है पहला पंजीकरण करना तथा दूसरा आवेदन प्रपत्र को पूरा करना CGL परीक्षा से संबंधित आयु सीमा तथा शैक्षिक योग्यता की जानकारी आगे दी गई है ।वैसे आवेदन प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी आयोग की वेबसाइट  www.ssc.in  पर भी हासिल कर सकते हैं ।आवेदन प्रक्रिया के तहत अभ्यार्थी को सर्वप्रथम आयोग की आधिकारिक वेबसाइट पर अपना पंजीकरण कराना होता है पंजीकरण के बाद साइट द्वारा उपलब्ध कराई गई पंजीकरण संख्या तथा पासवर्ड को अभ्यर्थी द्वारा भविष्य में आवश्यकता की दृष्टि से संभालना होता है ।आवेदन प्रक्रिया के अगले चरण में अभ्यार्थी को अपनी योग्यता सहित अन्य आवश्यक विवरणों को भरना पड़ता है इसके बाद अपनी पासपोर्ट साइज फोटो तथा हस्ताक्षर अपलोड करना पड़ता है। आवेदक को पंजीकरण आवेदन प्रपत्र का प्रिंट आउट भी अपने पास अवश्य रखना चाहिए आवेदन प्रक्रिया के अंतिम चरण में आवेदक को ऑनलाइन या ऑफलाइन परीक्षा शुल्क का भुगतान करना पड़ता है ।SSC परीक्षा के प्रत्येक चरण के लिए अलग-अलग प्रवेश पत्र निर्गत किए जाते हैं प्रवेश पत्र आवेदन प्रक्रिया की डेट 2 महीने के अंदर आयोग की क्षेत्रीय वेबसाइट पर डाल दिए जाते हैं ।जहां अभ्यर्थी अपनी जन्मतिथि पंजीकरण नंबर आदि डालकर अपना प्रवेश पत्र डाउनलोड कर सकता है । ssc cgl success tips




-SSC CGL की टीयर 1 तथा 2 की परीक्षा कंप्यूटर पर आधारित ऑनलाइन परीक्षा है जिसमें नकारात्मक अंक का भी प्रावधान है । टियर-3 की परीक्षा पेन और पेपर पर आधारित है जो अभ्यर्थी के लेखन कौशल पर आधारित होती है जिसमें अभ्यर्थी को निर्दिष्ट विषय पर तय शब्द सीमा के दायरे में निबंध एवं पत्र लेखन लिखना होता है । ssc cgl success tips

टियर-3 के बाद तीनों चरणों में सफल उम्मीदवारों की मेरिट सूची तैयार की जाती है ।सफल उम्मीदवार को टियर 4 के अंतर्गत कंप्यूटर प्रवीणता टेस्ट से गुजरना पड़ता है जो क्वालीफाइंग पद्धति का होता है ।जबकि टेक्स असिस्टेंट जैसे पदों के लिए टियर-4 में डाटा एंट्री स्क्रीन टेस्ट का आयोजन होता है ।जिसके कंप्यूटर एवं टाइपिंग गति की सीमा की जांच की जाती है ।तीन चरणों में सफल उम्मीदवारों के कुल प्राप्त अंकों के आधार पर आयोग द्वारा अंतिम वरीयता सूची तैयार की जाती है यहां इस बात का उल्लेख करना आवश्यक है कि सभी चरणों की परीक्षा प्रक्रिया पूरी होने के बाद एसएससी विभिन्न श्रेणियों के लिए एक संयुक्त कटऑफ अंक जारी करता है ।अभ्यर्थी आयोग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर कटऑफ अंक देख सकते हैं अपना परीक्षा परिणाम जान सकते हैं और अपना नाम व अनुक्रमांक दर्ज करके व्यक्तिगत स्कोर कार्ड भी अपलोड कर सकते हैं ।वर्ष 2017 की SSC CGL परीक्षा में अभ्यर्थियों के कट-ऑफ इस प्रकार है 1.सामान्य श्रेणी (415.47अंक) अन्य पिछड़ा वर्ग ओबीसी (395.31अंक) अनुसूचित जाति एस सी (370.12) तथा अनुसूचित जनजाति ST(350.13) इन अंकों से स्पष्ट है कि अभ्यर्थी को cgl के तीनों चरणों की परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन आवश्यक है । चरण प्रक्रिया के अंतिम चरण में सफल उम्मीदवारों को उन सभी दस्तावेजों को आयोग के समक्ष स्थापित करना होता है जिनका उल्लेख उन्होंने आवेदन प्रपत्र ने किया होता है ।चयनित अभ्यर्थी को उनकी योग्यता एवं आवेदन पत्र में चयनित विकल्प के अनुसार भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों विभागों पर संगठनों में ग्रेड  b/ c अधिकारी के रूप में नियुक्त किया जाता है ।इसके अंतर्गत शामिल मुख्य पद हैं आयकर इंस्पेक्टर परीक्षक, इंस्पेक्टर सहायक लेखा परीक्षक अधिकारी, विदेश मंत्रालय में सहायक सहायक प्रवर्तन अधिकारी ,केंद्रीय सतर्कता आयोग में सहायक अधिकारी आदि

अभ्यर्थियों को इस परीक्षा में संबंधित आवश्यक मानदंडों योग्यताओं पाठ्यक्रम तथा चयन प्रक्रिया के बारे में अच्छी तरह से पता होना चाहिए और उन्हीं के अनुरूप उसे आवेदन प्रपत्र भरना चाहिए। पदों से जुड़े विकल्प चुनना चाहिए और अपनी परीक्षा की रणनीति तैयार करनी चाहिए।  CGL परीक्षा में परीक्षार्थियों को अलग-अलग पदों पर लागू आयु सीमा संबंधी मानदंडों को आवश्यक रूप से पूरा करना चाहिए क्योंकि आयु संबंधी मापदंड पद के हिसाब से अलग-अलग हैं जबकि SC ,ST ,OBC के लिए आयु सीमा में विशेष छूट का प्रावधान भी बनाया गया है। साथ ही सीजन परीक्षा 2018 में आयोग द्वारा कुछ पदों के लिए आयु सीमा बढ़ाई भी गए हैं ।अब आयु सीमा को 18 से 27 वर्ष के बजाय 20 से 30 वर्ष कर दिया गया है । ssc cgl success tips

  • SSC CGL के विभिन्न पदों के लिए आयु सीमा SSC CGL का नाम:- सब इंस्पेक्टर (सीबीआई )सहायक सेक्शन अधिकारी, सहायक विदेश मंत्रालय, सहायक सहायक प्रवर्तन अधिकारी ।
  • -आयु सीमा 20 से 30 वर्ष (विशेष वर्गों की आयु सीमा में छूट) 
  • -गुप्तचर ब्यूरो में सहायक (गृह मंत्रालय )आयु सीमा 21 से 27 वर्ष (विशेष वर्गों को छूट)
  • – आयकर निरीक्षक, निरीक्षक, इंस्पेक्टर केंद्रीय उत्पाद शुल्क, ऊपरी प्रभाग लिपिक /निरीक्षक सहायक संकलनकर्ता ,डिविजनल अकाउंटेंट ऑडिटर ,सहायक टेक्स्ट एडिटर ।
  • -आयु 20 से 30 विशेष (वर्गों को छूट )
  • -सांख्यिकी निरीक्षक जांचकर्ता ग्रेड 2 
  • -आयु 18 से 32 (आरक्षित वर्गों को छूट) आयु सीमा की तरह ही CGL परीक्षा के लिए विभिन्न पदों के लिए अलग-अलग शैक्षणिक योग्यता रखी गई है ।जहां अधिकांश पदों के लिए आवश्यक योग्यता किसी भी विषय से स्नातक हैं वहीं कुछ विशेष श्रेणी के पदों जैसे सहायक सांख्यिकी अधिकारी निरीक्षक ,सहायक लेखा अधिकारी तथा संकलनकर्ता के लिए कुछ खास विषयों के साथ इंटरमीडिएट या स्नातक के अलावा कुछ अन्य प्रकार की विशिष्ट योग्यताएं भी जरूरी है । ssc cgl success tips
  • – SSC CGL के पदों के लिए आवश्यक शैक्षणिक योग्यताएं:- –SSC CGL पद श्रेणी सहायक लेखा परीक्षक अधिकारी 
  • :-योग्यता मान्यता प्राप्त विवि से स्नातक 
  • -सहायक लेखा अधिकारी -योग्यता CA या CS या लागत एवं प्रबंधन लेखाकार या MBA वित व्यावसायिक अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर ।
  • -सांख्यकीय जांचकर्ता निरीक्षक ग्रेड 2 
  • योग्यता:-मान्यता प्राप्त विवि से स्नातक और 12वीं 12 वीं  में गणित में 60% अंक या सांख्यिकी विषय के स्नातक।
  • – संकलनकर्ता -किसी मान्यता प्राप्त वी वी से गणित या सांख्यिकी अर्थ शास्त्र में स्नातक। -अन्य सभी पद किसी मान्यता प्राप्त बीवी से स्नातक 





-SSC CGL के अंतर्गत ग्रुप डी के अंतर्गत शामिल पद हैं ‘-सहायक प्रभागिय अधिकारी, सहायक लेखा अधिकारी, विभागीय लेखाकार इंस्ट्रक्टर ,सब-इंस्पेक्टर, आयकर सहायक, संगठन अधिकारी विभिन्न मंत्रालयों में सहायक, सहायक सुपरिटेंडेंट, इंस्पेक्टर केंद्रीय उत्पाद ,सब इंस्पेक्टर, इंस्पेक्टर नियंत्रक अधिकारी, इंस्पेक्टर परीक्षक, जूनियर सांख्यिकी अधिकारी ग्रेड सी के अंतर्गत शामिल प्रमुख पद है ।लेखा अधिकारी Junior संकलनकर्ता ,लेखापाल अकाउंटेंट ,सहायक आयकर सहायक ,सब इंस्पेक्टर आदि

– SSC CGL ग्रुप डी के अंतर्गत विभिन्न पदों के अनुसार तीन प्रकार के वेतनमान हैं ।

ग्रेड (1) ग्रेड पे रुपए 4,200 वेतनमान 45,000

 (2) ग्रेड पे₹46,00  वेतनमान  53,000 

(3)ग्रेड पे 48,00 वेतन 58000 जबकि SSC-cgl ग्रुप c के अंतर्गत दो प्रकार के पे स्केल है।

(1) ग्रेड पे ₹2,800 वेतन 34,000

(2) ग्रेड पे ₹ 24,00 वेतन 24,000

  • –SSC  द्वारा CGL कैलेंडर 2018 जारी कर दिया गया है आयोग द्वारा इस वर्ष पूर्व वर्षों की अपेक्षा परीक्षा की ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया जल्दी शुरू करने की घोषणा जारी की गई है SSC CGL 2018 से जुड़ी तिथियां इस प्रकार है (1) ऑनलाइन परीक्षा शुरु 21 अप्रैल 2018 
  • (2) आवेदन की अंतिम तिथि 25 मई 2018 
  • (3) SSC CGL टियर 1 परीक्षा तिथि 25 जुलाई 2018 से अगस्त 2018 
  • (4) सीजीएल टियर 2 परीक्षा तिथि 27 नवंबर 2018 से 30 नवंबर 2018 तक
  •  (5) परीक्षा तिथि जनवरी-फरवरी 2019 में संभावित

-टियर 1 परीक्षा की अवधि 75 मिनट से 60 मिनट कर दी गई है अधिकांश पदों के लिए आयु सीमा 18 से 23 से बढ़ाकर 20 से 30 वर्ष कर दी गई है ।पहली बार CGL पदों को ABC तथा d कैटेगरी में बांटा गया है SSC CGL में पहली बार कई नए पद भी शामिल किए गए हैं ।इसके अंतर्गत कई विभागों में सहायक पद तथा सहायक अकाउंट ऑफिसर पद भी शामिल है । SSC CGL के ऑनलाइन आवेदन के समय पद की वरीयता देना आवश्यक है हालांकि दस्तावेज सत्यापन के समय भी अभ्यार्थी से पद की वरीयता पूछी जाएगी और इस में संशोधन विकल्प भी दिया जाता है ।प्रत्येक साल के दूसरे चरण में आयोजित की जाने वाले SSC CGL परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन एवं आवेदन की प्रक्रिया विगत वर्षों की तुलना में 1 महीने पहले विगत वर्षों से शुरू कर दी गई है । ssc cgl success tips

-आयु सीमा तथा शैक्षणिक योग्यता का कटऑफ डेट 1 अगस्त है ।

-SSC CGL के अंतर्गत 5 सालों की रिक्तियां :-

-SSC CGL 2013 कुल रिक्तियां:- 16114 

-SSC CGL 2014 कुल रिक्तियां 17166 

-SSC CGL 2015 कुल रिक्तियां 9217

– SSC CGL 2016 कुल रिक्तियां 10750 

-SSC CGL 2017 कुल रिक्तियां 6,000

– SSC CGL 2018 कुल रिक्तियां 20000

 

SSC CGL टियर 1 परीक्षा पाठ्यक्रम :-

सामान्य बुद्धिमता व तर्कशक्ति 25 प्रश्न

-सादृश्यता या संबंधता ,समानताएं और अंतर, स्थानिक कल्पना ,अभिविन्यास, समस्या समाधान विश्लेषण, निर्णय लेना ,दृश्य समृद्धि ,विभिन्न अवलोकन संबंधी अवधारणा, अंकगणितीय तर्क तथा आकृति संबंधी वर्गीकरण ,अंकगणित संख्या श्रृंखला यह शाब्दिक श्रृंखला कोडिंग और विवरण निष्कर्ष तथा न्याय उत्तर ,प्रश्न शाब्दिक बुद्धिमत्ता और तर्कशक्ति के अंतर्गत शामिल किए जाते हैं। जबकि शाब्दिक बुद्धिमत्ता एवं तर्कशक्ति वाले प्रश्न भी शामिल है। सिमेंटिक समानता, प्रतीकात्मक अंक संबंधी समानता, आंकड़े समानता, सीमेंटेक वर्गीकरण ,प्रतीकात्मक अंक संबंधी वर्गीकरण ,आंकड़े संबंधी वर्गीकरण ,सीमेंटिक क्रम, अंक क्रम, आंकड़े से संबंधी क्रम, समस्या समाधान, शब्द निर्माण, कोडिंग डिकोडिंग ,संख्यात्मक संक्रिया ,प्रतीकात्मक संकरिया, अपनति अंतराल ,अभिविन्यास, अंतराल मानसिक चित्रण, वेनआरेख, रेखाचित्र ,अनुमति, पंचड हॉल, पैट्रन फोल्डिंग व कंप्लीशन, फोल्डिंग आकृति,  फोल्डिंग वर्क कंप्लीशन, सूचीकरण, पता मिलान, तिथि व शहर मिलान ,केंद्र कोड, अनुक्रमांक का वर्गीकरण ,छोटे व बड़े अक्षर अंक कोडिंग और डिकोडिंग व वर्गीकरण स्थापित आंकड़े ,आलोचनात्मक विवेचन, भावनात्मक बुद्धिमत्ता तथा अन्य उपविषय यदि कोई हो तो। ssc cgl success tips


– सामान्य जानकारी 25 प्रश्न:-

– इस घटक के प्रश्नों का उद्देश्य अभ्यार्थी के आसपास के परिवेश की सामान्य जानकारी तथा समाज में उनके अनुप्रयोग की जांच करना होता है।साथ ही सामयिक  और समसामयिक घटना और दिन-प्रतिदिन के अवलोकन के ऐसे मामलों के ज्ञान व उनके वैज्ञानिक पहलू की जांच करने हेतु भी प्रश्न पूछे जाते हैं जिसकी सामान्यता जानकारी की अपेक्षा किसी आम शिक्षित व्यक्ति से की जाती है । ssc cgl success tips

:-प्रश्न पत्र  SSC CGL success tips

-इस भाग में सामान्य ज्ञान व भूगोल इतिहास ,भारतीय राज्यव्यवस्था ,आर्थिक परिदृश्य, पर्यावरण संस्कृति ,वैज्ञानिक अनुसंधान भारत के पड़ोसी देशों से संबंध तथा अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं आदि से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं ।

-परिमाणात्मक अभिरुचि 25 प्रश्न

-प्रश्न पत्र के इस खंड में अभ्यर्थी द्वारा संख्याओं के सही प्रयोग अनुप्रयोग बोध एवं विश्लेषण क्षमता की जांच की जाती है ।इस खंड में जिन प्रमुख विषय से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं वह पूर्णांक समस्याएं ,अभिकलन ,दशमलव खंड एवं संख्याओं के बीच परस्पर संबंध, प्रतिशतता अनुपात समानुपात ,भिन्न, वर्गमूल, घनमूल ,औसत ,ब्याज, साधारण ब्याज ,चक्रवृद्धि ब्याज, लाभ ,हानि ,बट्टा ,साझेदारी व्यापार, मिश्रण, व सहसम्बन्ध, काम ,समय ,चाल , बीजगणित एवं प्रारंभिक करणी के बीज गणितीय ज्ञान ,रैखिक समीकरण तथा  रेखीय समीकरणों के ग्राफ, त्रिभुज व उनके विभिन्न प्रकार, केंद्र त्रिभुजों की समरूपता, समानता  वृत्त व उसकी जीवाए,वृत की जीवाओ द्वारा आंतरिक कोण ,स्पर्श रेखाएं दो या अधिक वृतों के समान स्पर्श रेखाएं ,चतुर्भुज ,बहुभुज समांतर चतुर्भुज, घनाभ व घन, गोला ,अर्ध गोला ,आयताकार, समांतर षटफलक ,लंब ,वृत्तीय बेलन ,शंकु ,प्रिज्म, पिरामिड, त्रिकोणमिति ,अनुपात ,डिग्री कोण, रेडियन माप,मानक सह रूपता, अनुपूरक कोण, हिस्टोग्राफ, आवृत्ति बहुभुज ,बार आरेख, तथा पाई चार्ट आदि।

– अंग्रेजी परिज्ञान 25 अंक 

-इसके अंतर्गत अभ्यर्थियों को अंग्रेजी की समझ अंग्रेजी ग्रामर के प्रमुख सिद्धांतों का सही प्रयोग अनुप्रयोग तथा  अंग्रेजी लेखन क्षमता व परिज्ञान का परीक्षण किया जाता है ।प्रश्नपत्र के इस भाग में शामिल प्रमुख टॉपिक से पार्ट्स ऑफ स्पीच ,सेंटेंस, वन वर्ल्ड सुब्स्टीट्यूशन, कॉमन एरर, सिनोनिम्स एंड एनटोनीयम्स,इडियम  एंड फ्रेज, सेंटेंस करेक्शन, सेंटेंस अरेंजमेंट, फॉरेन वर्ड्स ,एंड फ्रिज क्लोज टेस्ट ,कमोनली इंग्लिश वर्ड्स, इंग्लिश लैंग्वेज ,कॉन्प्रिहेंशन आदि। आयोग द्वारा इस भाग में कुछ परिवर्तन भी किए जाते हैं। अतः अभ्यार्थी से अपेक्षा की जाती है कि वह अंग्रेजी परिज्ञान वाले खंड के प्रश्नों की प्रकृति जानने के लिए विगत 4 से 5 वर्ष के प्रश्न पत्र अवश्य पढ़ ले। SSC CGL success tips

SSC CGL -2 परीक्षा पाठ्यक्रम:-

प्रश्न पत्र (1) -संख्यात्मक या परिमाणात्मक क्षमता- कुल 100 प्रश्न सभी पदों के लिए अनिवार्य ।इस प्रश्न पत्र का पाठ्यक्रम भी टीयर -1 के अंतर्गत आने वाले परिमाणात्मक अभीरुचि के अनुसार ही होता है। मगर इसमें टियर-1 की अपेक्षा प्रश्नों की संख्या अधिक होती है। एक बड़ा अंतर यह भी है कि पूर्व में परिमाणात्मक अभिरुचि महज प्रश्न पत्र का एक खंड है मगर टियर 2 में परिमाणात्मक क्षमता का पूरा 200 अंकों का एक प्रश्न पत्र ही होता है ।टीयर 1 तथा टियर 2 दोनों में ही परिमाणात्मक अभिरुचि क्षमता का पाठ्यक्रम समान होने के कारण दोनों ही चरणों की तैयारी एक साथ ही हो जाती है ।इस प्रश्न पत्र का स्तर  आठवीं से दसवीं तक का होता है। ssc cgl success tips

– प्रश्न पत्र (2)- अंग्रेजी भाषा तथा परिज्ञान कुल 200 प्रश्न सभी पदों के लिए अनिवार्य ।

-इस प्रश्न पत्र का पाठ्यक्रम भी काफी कुछ टियर-1 परीक्षा के अंग्रेजी परिज्ञान वाले खंड से मिलता-जुलता है ।मगर इसमें ना सिर्फ कुछ अन्य विशेष टॉपिक भी जोड़ दिए जाते हैं जबकि प्रश्नों की संख्या भी अधिक (200) होती है। इस प्रश्न पत्र में शामिल कुछ विषय हैं गलती की पहचान, खाली स्थान को भरना, समानार्थक विलोम, वर्तनी ,शुद्ध शब्द की पहचान, मुहावरे व लोकोक्तियां,एक वाक्यों का सुधार, क्रियाओं का कर्तृवाच्य, कर्मवाच्य, प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष वर्णन डायरेक्ट इनडायरेक्ट स्पीच का परिवर्तन वाक्य के भागों का परिवर्तन, परिच्छेद, निकट परिषद और परिज्ञान परिछेद में वाक्यों आदि से जुड़े प्रश्न ।इस प्रश्न पत्र का स्तर 12वीं स्तर का होता है। ssc cgl success tips




– प्रश्न पत्र (3) -सांख्यिकी कुल प्रश्न(100)-केवल सांख्यिकी अन्वेषक ग्रेड 2 सहायक जूनियर, सांख्यिकी अधिकारी तथा महापंजीयक में संकलनकर्ता पदों के लिए इस प्रश्न पत्र के अंतर्गत शामिल कुछ विषय हैं ।संकलन वर्गीकरण और सांख्यिकी डाटा का प्रस्तुतीकरण ,केंद्रीय प्रवृत्ति का माप, परिक्षेपणकी माप,सहसम्बन्ध व प्रतिक्रमण, संभाव्यता का सिद्धांत या दृश्य एवं संभाव्यता विभाजन ,प्रतिदर्श के सिद्धांत, सांख्यिकी का अनुमान, प्रसरण का विश्लेषण, समय श्रृंखला विश्लेषण ,सूचकांक आदि इस प्रश्न पत्र का स्तर 12वीं से लेकर स्नातक स्तर तक होता है । ssc cgl success tips

-प्रश्न पत्र (4) -सामान्य अध्ययन विधि व अर्थशास्त्र कुल 100 प्रश्न।

– सीएजी के अंतर्गत भारतीय लेखा परीक्षा अधिकारी तथा सहायक लेखा अधिकारी के पदों के लिए CAG के अंतर्गत भारतीय लेखापरीक्षा के अंतर्गत सहायक लेखा परीक्षा अधिकारी तथा लेखा विभाग के अंतर्गत सहायक लेखा अधिकारी पदों के लिए इस परीक्षा का आयोजन किया जाता है ।इस प्रश्न पत्र के अंतर्गत गणित विषय है  खंड (1) वित्त व लेखा लेखांकन के मौलिक सिद्धांत और बुनियादी अवधारणा भारतीय नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक सीएजी संवैधानिक प्रावधान भूमिका व जिम्मेदारी (2)वित्त आयोग भूमिका एवं कार्य (3)अर्थशास्त्र की बुनियादी अवधारणा व व्यष्टि अर्थशास्त्र का परिचय (4)मांग व पूर्ति का सिद्धांत (5)उत्पादन व लागत का सिद्धांत(6) विभिन्न बाजारों में बाजार के रूप और मूल्य निर्धारण (7)भारतीय अर्थव्यवस्था (8)भारत में आर्थिक सुधार,धन व बैंकिंग, प्रशासन में सूचना ,प्रौद्योगिकी की भूमिका । ssc cgl success tips

-एसएससी सीजीएल टीयर- 3 परीक्षा पाठ्यक्रम:-

वर्णात्मक परीक्षा हिंदी /अंग्रेजी सभी पदों के लिए अनिवार्य -यह एक पेन व  पेपर मोड ऑनलाइन परीक्षा है ।जिसमें इसमें आप हिंदी अंग्रेजी में से किसी भी भाषा में उत्तर लिख सकते हैं ।इसमें 2 प्रश्न होते हैं। (1) 250 शब्दों का निबंध लिखना (2)150 शब्दों में प्रार्थना पत्र ,आवेदन पत्र लिखना ।यह प्रश्न पत्र 100 अंको का प्रत्येक प्रश्न के लिए 50 अंक का होता है। जिसके लिए 60 मिनट की अवधि (दिव्यांग नेत्र दृष्टि व मस्तिष्क धात से ग्रसित अभ्यर्थियों के लिए 80 मिनट) निर्धारित होती है ।इन प्रश्नपत्र को उत्तीर्ण करने के लिए न्यूनतम अंक 33% है टीयर 1 तथा टियर 2 में नकारात्मक मूल्यांकन का भी प्रावधान है मगर टियर-3 में नकारात्मक अंगों का प्रावधान नहीं है ।निबंध किसी भी समसामयिक, सामाजिक ,आर्थिक ,सांस्कृतिक न्याय पर राजनीतिक विषय पर हो सकता है ।जैसे स्वच्छ भारत अभियान, मिशन अंत्योदय योजना ,बैंकों की गैर निष्पादित परिसंपत्तियों ,बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, बाढ़ व सूखे की समस्या, आपदा प्रबंधन ,न्यायिक सक्रियता ,ग्लोबल वार्मिंग व जलवायु परिवर्तन ,आधार परियोजना ,नोटबंदी ,डिजिटल करेंसी, कैशलेस ,साइबर क्राइम, साइबर लॉ ,कृषि क्षेत्र की समस्याएं, शिक्षा व रोजगार से जुड़े मुद्दे इत्यादि ।इसी प्रकार किसी व्यक्ति संस्था या अधिकारी को किसी मुद्दे पर प्रार्थना पत्र या आवेदन पत्र भी अभ्यर्थी को लिखना होता है ।वास्तव में वर्णात्मक परीक्षा के द्वारा अभ्यर्थी की समसामयिक जागरूकता ,लेखन शैली ,शब्द संयोजन और शब्दों के प्रस्तुतीकरण की जांच की जाती है। ssc cgl success tips

SSC CGL टियर-4 परीक्षा पाठ्यक्रम:-

वैसे टीयर 4 की परीक्षा प्रकृति के बारे में हम पूर्व में उल्लेख कर चुके हैं ।मगर फिर भी यहां उसके पाठ्यक्रम की चर्चा की जा रही है इस परीक्षा के अंतर्गत दो प्रकार के कौशल परीक्षण होते हैं एक कंप्यूटर परीक्षण परीक्षा तथा दूसरा डाटा एंट्री कौशल परीक्षण ।यह दोनों ही टेस्ट सभी पदों के लिए नहीं है बल्कि उच्च पदों के लिए अनिवार्य है ।मसलन सीपीटी सहायक अनुभाग अधिकारी, केंद्रीय सचिवालय सेवा तथा सहायक अनुभाग अधिकारी, विदेश मामलों के मंत्रालय के पदों के लिए आवश्यक है ।इस परीक्षा के बारे में पूर्व में परीक्षा का आयोजन के अंतर्गत अधिक जानकारी दी गई है कृपया उसे अवश्य पढ़ें ।सीपीटी परीक्षा कुल 45 मिनट की होती है इसके लिए अभ्यर्थी को कंप्यूटर पर तीन प्रकार के परीक्षणों से गुजरना पड़ता है ।(1) वर्ड प्रोसेसिंग टाइपिंग गति सीमा परीक्षण (2) स्प्रेडशीट माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल पर करना तथा(3) स्लाइड माइक्रोसॉफ्ट पावर पॉइंट स्लाइड बनाना यह परीक्षा केवल उतीर्ण प्रकृति की है मगर जिन पदों के लिए यह परीक्षा निर्धारित की गई है उन्हें यह पूरा आवश्यक रूप से उतीर्ण करना जरूरी है ।तभी अभ्यर्थी का अंतिम मूल्यांकन हो पाता है ।  ssc cgl success tips

-परीक्षा की तैयारी कैसे करें-

इस परीक्षा में शामिल होने से पूर्व अभ्यार्थियों से अपेक्षा की जाती है कि वह सभी चरणों की परीक्षा की प्रवृत्ति एवं प्रक्रिया को अच्छी प्रकार से पढ़ समझ ले आप कौन से विभाग मैं किस पद के लिए आवेदन कर रहे हैं और क्यों कर रहे हैं उसकी जानकारी होनी भी आवश्यक है क्योंकि सफलता प्राप्ति के लिए मंजिल राह उसके परिणाम व चुनौतियों के बारे में पूरी जानकारी होना आवश्यक है। संपूर्ण परीक्षा प्रक्रिया तथा परीक्षा पाठ्यक्रम जानने के बाद अभ्यर्थी के लिए अगला पड़ाव होता है। ssc cgl success tips

 परीक्षा में सफलता के लिए प्रभावी रणनीति बनाना – 

क्योंकि इस परीक्षा का स्तर सीएचएसएल की तुलना में अधिक कठिन होता है अतः इसमें सफलता हासिल करने के लिए कठिन परिश्रम का कोई दूसरा विकल्प नहीं है ।मगर यह बात याद रखना भी बेहद जरूरी है कि केवल सही दिशा में सही रणनीति के साथ और और परिश्रम के साथ ही सफलता हासिल की जाती है। अतः उम्मीदवारों से अपेक्षा की जाती है कि वह पाठ्यक्रम तथा पिछले 4 से 5 सालों के प्रश्न पत्र का गहन अवलोकन करके अपनी परीक्षा की कार्य योजना रणनीति तैयार करें ।बहुत अधिक पढ़ाई की अतिरेक से बचें और पाठ्यक्रम व परीक्षा की प्रकृति के अनुसार नियमित एवं चयनित पढ़ाई को तवज्जो दें । ssc cgl success tips

-SSC CGL में सफलता के लिए लगभग 6 से 8 महीने की नियमित 5 से 6 घंटे की पढ़ाई आवश्यक है ।इस परीक्षा में अभ्यर्थियों के लिए अच्छी बात यह है कि उनके टियर 1 तथा टियर 2 के कुछ प्रश्न पत्रों की तैयारी एक साथ हो जाती है जैसे टियर-1 प्रश्नपत्र के परिमाणात्मक अभिरुचि और अंग्रेजी परिज्ञान तथा टियर 2 के परिमाणात्मक क्षमता एवं अंग्रेजी भाषा परिज्ञान प्रश्न पत्रों में काफी कुछ समानता है इस कारण एक साथ ही उन की तैयारी हो जाती है ।प्रतिभागियों से अपेक्षा की जाती है कि वह अपनी तैयारी को और पैना करक बढ़तेे समय के साथ लगातार अपने सोचने समझने लिखने पढ़ने याद करने व विश्लेषण करने की क्षमता के में लगातार वृद्धि करते रहें यानी वह परीक्षा में सफलता के लिए सही दिशा में सही प्रयास के साथ-साथ गुणवत्ता गतिशीलता कुशलता को प्रतिबद्धता का भी विशेष महत्व है।  ssc cgl success tips

-क्योंकि SSC CGL परीक्षा के अधिकांश प्रश्नों का उत्तर आठवीं 12वीं तथा 10 वीं स्तर सांख्यिकी तथा प्रश्न पत्र सामान्य अध्ययन विधि अर्थशास्त्र और एक सामान्य बुद्धिमता व तर्क शक्ति वाले खंडों को छोड़कर का होता है अतः अभ्यार्थी संख्यात्मक परिमाणात्मक अभिरुचि या क्षमता तथा अंग्रेजी भाषा व  परिज्ञान वाले प्रश्नों की तैयारी के लिए एनसीईआरटी ,सीबीएसई तथा राज्य स्तरीय शिक्षा बोर्ड की आठवीं से बारहवीं तक की सभी पुस्तकों का अध्ययन कर सकते हैं। जहां तक संख्यात्मक अभिरुचि क्षमता का सवाल है तो इसके लिए आठवीं से दसवीं तक के गणित की पुस्तकों का अध्ययन ही पर्याप्त है हां अंग्रेजी विषय एवं सामान्य ज्ञान की जानकारी के लिए आठवीं 12वीं तक की अंग्रेजी ग्रामर ,भूगोल अर्थशास्त्र ,राजनीति शास्त्र ,विज्ञान इतिहास आदि विषयों की पुस्तकों का अध्ययन किया जा सकता है ।सामान्य अध्ययन वाले प्रश्न पत्र के लिए 10वीं के साथ-साथ स्नातक स्तर की सांख्यिकी, कॉमर्स ,अर्थशास्त्र की पुस्तकों का अध्ययन करना करना जरूरी है । अभ्यर्थी से अपेक्षा की जाती है कि वह किसी भी एकेडमिक किताब पुस्तक से केवल उन्हीं टॉपिक को  पढ़े जिनका SSC CGL पाठ्यक्रम में उल्लेख किया गया हो अथवा  परीक्षा की प्रकृति से संबंध रखते हो। ssc cgl success tips


Related post :- 

 

Comments (0)