Homeसंघ लोक सेवा आयोग

नौकरी के साथ IAS Exam कि तैयारी कैसे करे ?

Like Tweet Pin it Share Share Email

कामकाजी होकर भी जीत सकते हैं बाजी

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी आर्थिक दृष्टिकोण से दो तरह के अभ्‍यर्थी करते हैं- प्रथम – बेरोजगार, द्वितीय- वे अभ्र्‍य‍थी जिन्‍हें रोजगार प्राप्‍त हैं, लेकिन उनकी योग्‍यताओं एवं महत्‍वाकांक्षाओं से कम। हमारा उपर्युक्‍त बिन्‍दु इन द्वितीय तरह के अभ्‍यर्थियों से संबंधित है। कामकाजी अभ्‍यर्थी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी तो करना चाहते हैं, लेकिन समय का अभाव इनके हौसलों के सामने सबसे बड़ी चुनौती बनकर खड़ा रहता है। समय की कमी के साथ-साथ पढ़ाई में निरन्‍तरता बनाए रखना भी इनके सामने दूसरी चुनौती होती है। इनके सामने अन्‍य चुनौतियों में सही मार्गदर्शन का अभाव, मुद्दों पर चर्चा हेतु अपेक्षित ग्रुप का अभाव इत्‍यादि होते हैं।

How to Preparation Competitive Exam while Doing Jobलेकिन ऐसे अभ्‍यर्थियों के कुछ सकारात्‍मक पक्ष भी होते हैं। कहा जाता है ‘ आवश्‍यकता अविष्‍कार की जननी होती हैं’ अर्थात् आवश्‍यकता के कारण मानव अपनी मेधा का प्रयोग कर नई-नई वस्‍तुओं, तकनीकों, मार्गों का विकास करता है, जो न केवल उसके जीवन को सरल बनाते हैं अपितु  उनके समय की भी बचत करते हैं। इसी प्रकार समय के अभाव में कामकाजी अभ्‍यर्थी के अंदर बेहतर प्रबन्‍धन क्षमता का गुण आ जाता है। इससे ये अभ्‍यर्थी बहुत हद तक अपने कम समय का बेहतर उपयोग कर लेते हैं। कामकाजी अभ्‍यर्थियों का दूसरा सकारात्‍मक पक्ष पढ़ाई के दौरान अधिक एकाग्रचित होना है। ये अभ्‍यर्थी अन्‍य सामान्‍य अभ्‍यर्थियों की तुलना में कुछ अधिक एकाग्रचित होकर पढ़ाई करते हैं। इससे इनके कम पढ़ाई से भी अधिक परिणाम प्राप्‍त होता है।

तीसरा और सबसे मजबूत सकारात्‍मक पक्ष इनका आर्थिक रूप से आत्‍मनिर्भर होना है। यह तीसरा पक्ष इनके लिए अधिक महत्‍वपूर्ण है जो इन अभ्‍यर्थियों को कई और चिन्‍ताओं से दूर रखता है, जैसे- प्रत्‍येक माह रहने, कोचिंग तथा मैटे‍रियल इत्‍यादि की व्‍यवस्‍था हेतु रूपये की चिंता, अभिभावक के प्रति जवाबदेही की चिंता, परीक्षा में अनुत्‍तीर्ण होने पर क्‍या होगा की चिंता तथा भविष्‍य में क्‍या होगा की चिंता इत्‍यादि। यही कारण है कि यदि हम विगत वर्षों के सिविल सेवा परीक्षा के साथ-साथ अन्‍य प्रतियोगी परीक्षाओं के अंतिम परिणाम देखें तो कामकाजी अभ्‍यर्थियों के चयन काक प्रतिशत बेरोजगार अभ्‍यर्थियों से किसी भी परीक्षा में कम नहीं रहा है।

     कामकाजी अभ्‍यर्थियों के लिए कुछ रणनीतियां

  • नौकरी या व्‍यवसाय करने वाले वे अभ्‍यर्थी जो सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करना चाहते हैं, वे सबसे पहले अपने कार्य के समय के अतिरिक्‍त जो भी समय है, उसे टाइम टेबल बनाकर व्‍यवस्थित करें, ताकि उनको पता रहे कि उनके पास पढ़ाई के लिए कितना समय है और उसके अनुरूप वे अपनी रणनीति बना सकें।
  • ऐसे अभ्‍यर्थी पढ़ाई के साथ-साथ नोट्स अनिवार्य रूप से बनाए, ता‍कि पाठ्यक्रम को कम समय में दोहराने के लिए समेटा जा स‍के। यह प्रक्रिया परीक्षा के समय अत्‍यन्‍त लाभकारी होता है।
  • कामकाजी अभ्‍यर्थी बहुत अधिक किताबों के बोझ से बचें। इनको दस किताब को दस बार पढ़ने से होगा।
  • ये अपने पढ़ायी में ग्राफिक्‍स का अधिक से अधिक प्रयोग करें।
  • ऐसे अभ्‍यर्थियों के मार्गदर्शन के लिए अब बहुत से संस्‍थान सुबह और शाम की कक्षाओं का आयोजन करती हैं। इसके अलावा छुट्टियों के दिन विशेष कक्षाओं का भी आयोजन किया जाता है।
  • ऐसे छात्र हमारे फेसबुक पेज ग्रुप से जुडकर नई नई व लेटेस्ट जानकारी ले सकते है |

Comments (8)