HomeCareer Course

Advertisement में असीम अवसर

Like Tweet Pin it Share Share Email

एडवरटाइजिंग में असीम अवसर

– इस क्षेत्र में वही लोग सफलता के झंडे गाड़ सकते हैं जिनमें कल्पनाशीलता हो तथा चुनौतीपूर्ण काम को जल्दी से करने की क्षमता हो पत्र-पत्रिकाओं टीवी और सड़कों पर लगे होर्डिंग को देख कर हम सहज ही उसकी तरफ आकर्षित हो जाते हैं उनकी अपील को देखकर या सुनकर हमारी सोच और दिमाग का कायाकल्प हो जाता है आखिर इसके पीछे वह कौनसी शक्ति छिपी रहती है जो हमें उस प्रोडक्ट को खरीदने के लिए मनोवैज्ञानिक दबाव डालती है दरअसल यह सारा खेल एडवरटाइजिंग एजेंसी और उनके काम करने वाली टीम के द्वारा तैयार किया जाता है विज्ञापन को बनाने से लेकर उसे मार्केट में सफलतापूर्वक पहचानने का श्रेय इसी टीम का होता है जिसके कारण कंपनी को लाखों करोड़ों रुपए का फायदा पहुंचता है वैसे भारत में एडवरटाइजिंग का इतिहास काफी पुराना है 1905 से ही एडवरटाइजिंग एजेंसी इस क्षेत्र में काम कर रही है इस तथ्य को भी नकारा नहीं जा सकता है कि मल्टीनेशनल कंपनियों के भारत में पदार्पण से विज्ञापन इंडस्ट्रीज का कारोबार बढ़ा है यही कारण है कि इस क्षेत्र में विशेषज्ञों की मांग में भी धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है जिसे पूरा करना टेढ़ी खीर साबित हो रहा है क्षेत्र में वही लोग सफल होते हैं जिन्हें कल्पनाशीलता हो तथा चुनोतिपूर्ण काम को जल्दी से करने की क्षमता हो । Career in Advertisement

-एडवर्टाइज को बनाने से लेकर उसे मार्केट में सफलतापूर्वक पहुंचानने का श्रेय एडवरटाइजिंग एजेंसी का होता है ।

-12वीं के बाद रखें कदम

-विज्ञापन इंडस्ट्रीज में प्रशिक्षित लोगों की सदा से ही मांग की जाती है इसलिए विज्ञापन से संबंधित कोर्स क्षेत्र में पहचान बनाई जा सकती है यदि आप प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए इच्छुक हैं तो आपको कम से कम 12वीं होना अनिवार्य है इसके पश्चात आप दाखिला लेने के योग्य हो जाते हैं जबकि अन्य कोर्स के लिए स्नातक स्तर के लोगों की मांग की जाती है कोर्स के दौरान छात्रों को विज्ञापन विज्ञापन के प्रकार सेल्स प्रमोशन ब्रांड इक्विटी मार्केटिंग टूल पंच लाइन लिखने कॉपीराइटर मीडिया प्लैनिंग और मैनेजमेंट से संबंधित जानकारियां छात्रों को दी जाती है। Career in Advertisement

– कोर्स से जुड़ी जानकारी 

कोर्स -बीजेएमसी बीएमसी

शैक्षिक योग्यता -12वीं कोर्स

अवधि- 3 वर्ष

बीएइन एडवरटाइजिंग -12वीं

-3 वर्ष

एस जे एम सी – स्नातक- 3 वर्ष

पीजी डिप्लोमा इन एडवरटाइजिंग -स्नातक

-1 वर्ष

 एमबीए इन एडवरटाइजिंग

– स्नातक- 2 वर्ष 

-व्यापक है कार्यक्षेत्र एडवरटाइजिंग

एक ऐसा क्षेत्र है जिसका कार्य क्षेत्र बहुत फैला हुआ है इसके प्रमुख कार्य क्षेत्र और उसमें जॉब के लिए अवसर इस प्रकार हैं  Career in Advertisement

-क्रिएटिव डिपार्टमेंट इसके अंतर्गत कॉपीराइटर विजुअल लाइजर फोटोग्राफर आदि आते हैं जिसमें विज्ञापन के लिए स्लोगन पंच लाइन लिखना ग्राफिक्स स्केचिंग संबंधी कार्य देखना फोटोग्राफ्स खींच कर लाना जैसे कार्य शामिल है इसमें उन लोगों की ज्यादा डिमांड होती है जो लीक से अलग हटकर कुछ सोचते हैं तथा थीम निर्माण कार्य निपटा सकते हैं। Career in Advertisement

क्लाइंट सर्विसिंग-

क्लाइंट सर्विसिंग में अकाउंट एग्जीक्यूटिव बिजनेस डेवलपमेंट मैनेजर मार्केटिंग एग्जीक्यूटिव तथा मार्केटिंग डायरेक्टर से संबंधित पद होते हैं क्लाइंट सर्विसिंग और एडवरटाइजिंग में वही संबंध है जो दिल और शरीर का होता है इसके अंतर्गत बजट बनाना विज्ञापन के लिए माध्यम उपलब्ध कराना कंपनी से विज्ञापन लेना क्लाइंट डीलिंग तथा ग्रुप मैनेजिंग का जिम्मा होता है । Career in Advertisement

-मीडिया प्लैनिंग मीडिया प्लैनिंग के अंतर्गत बनकर तैयार विज्ञापन को विभिन्न माध्यमों के सहारे डिस्प्ले करने की जिम्मेदारी आती है इसके अलावा विभिन्न माध्यमों तक विज्ञापन पहुंचाने की व्यवस्था से लेकर रेट सबंधी जानकारी इसी विभाग को रखनी पड़ती है कौन सा विज्ञापन किस हद तक लक्षित समूह को प्रभावित करेगा यह तय करना इसी विभाग का काम होता है। Career in Advertisement

– रिसर्च डिपार्टमेंट कोई भी विज्ञापन तैयार करने से पहले उससे संबंधित कई तरह के रिसर्च वर्क जैसे विज्ञापन का कितना असर होगा पिछले विज्ञापन से कितना लाभ हुआ आदि आते हैं पूरे विज्ञापन की संरचना इस शोध के इर्द-गिर्द घूमती है बाजार की जरूरतों तथा ग्राहकों के रुख को भी पता लगाने की कोशिश की जाती है इसमे रिसर्चर रिसर्च मैनेजर मैनेजर आदि पद होते हैं। Career in Advertisement

– रोजगार की संभावनाएं

विज्ञापन इंडस्ट्री कई अन्य सेक्टर के शामिल हो जाने से यह रोजगार के बड़े फलक पर अपना लोहा मनवा रही है इसमें छात्र अपनी सुविधा अनुसार कोई क्षेत्र चुन सकते हैं प्रतिदिन खुलने वाली ऐड एजेंसियों में कई लोगों की आवश्यकता होती है आने वाले समय में इस क्षेत्र का भविष्य सुनहरा है क्योंकि ग्राहकों की संतुष्टि और उन्हें प्रोडक्ट तक खींच लेना ही विज्ञापन का वास्तविक लक्ष्य होता है इसलिए क्रिएटिविटी पर विशेष ध्यान देना पड़ता है इसके प्रमुख विभागों में कार्य की प्रचुरता है इसलिए रोजगार पाने की दृष्टि से इस में संभावनाएं है या विदेश में करियर स्थापित करना चाहते हैं तो आप वहां भी अपनी योग्यता दर्शा सकते हैं फ्रीलांसर अथवा दैनिक कर्मचारी के रूप में आप अपनी सेवाएं दे सकते हैं अधिकांश लोग ऐसे हैं जो किसी संस्थान से न जुड़कर स्वतंत्र रूप से विज्ञापन से जुड़े कार्य कर रहे हैं तथा चेक कर रहे हैं । Career in Advertisement

-आकर्षक सैलरी पैकेज

आकर्षक वेतन मान भी विज्ञापन इंडस्ट्रीज की पहचान है शुरुआती समय में प्रोडक्शन मैनेजर को 15000 कॉपीराइटर को 20,000 अकाउंट मैनेजर को 20 ,25 हजार तथा जनरल मैनेजर को 35 से ₹40000 प्रति माह मिलते हैं अनुभव बढ़ने पर इनकी सैलरी 20 से 25000 25 से 30,000 45 से 50 हजार तथा 65 से 70 हजार प्रतिमाह के ऊपर तक पहुंचने लगती है जबकि फ्री लांसिंग करने वाले लोगों को प्रति मिनट तथा एग्रीमेंट बेसिस पर सैलरी दी जाती है विदेशों में भी भारी रकम प्रोफेशनल लोगों को दी जाती है आजकल सेलरी की पूरी सरंचना कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर आधारित हो गई है पूरे साल की सैलरी तथा बिजनेस का टारगेट दिया जाता है । Career in Advertisement

-प्रमुख संस्थान –

मास कम्युनिकेशन रिसर्च सेंटर जामिया मिलिया इस्लामिया नई दिल्ली वेबसाइट

www.jmi.nic.in

Ph.011-26981717

-एनआरएआई स्कूल ऑफ़ मास कम्युनिकेशन में दिल्ली वेबसाइट

www.nraismc.com

pH.011-416429585960

– एडिट वर्कर्स स्कूल ऑफ़ मास कम्युनिकेशन इन नोएडा वेबसाइट

-www.editworks.co.in

pH.09953007601


Related Post :-

World Milk Day विश्व दुग्ध दिवस 1 जून 

International labour day अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस 1 मई

मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET, AIIMS  संपूर्ण जानकारी

असहयोग आन्दोलन 1920 Non cooperation movement

Robotics Engineering की संपूर्ण जानकारी हिंदी में

Comments (0)